• July 14, 2024

श्रीमद्भागवत कथा के दिव्य मंच से स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने दिया संदेश ’’हम दो, हमारे दो, सबके दो, जिसके दो उसी को दो

 श्रीमद्भागवत कथा के दिव्य मंच से स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने दिया संदेश ’’हम दो, हमारे दो, सबके दो, जिसके दो उसी को दो
Sharing Is Caring:

 

कमल अग्रवाल (हरिद्वार) उत्तराखंड

ऋषिकेश * विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि अब समय आ गया है कि भारत में रहने वाले सभी परिवारों पर ’हम दो, हमारे दो, सबके दो’ यह लागू हो। जिसके दो बच्चें हैं उसी को सरकार की ओर से दी जाने वाली सुविधायें मिले अर्थात ’जिसके दो बच्चें हों उसी को सुविधायें दो’ क्योंकि यह देश के उज्वल भविष्य के लिए यह बहुत जरूरी है।

आज हम विश्व जनसंख्या दिवस मना रहे हैं परन्तु अब बात संख्या की नहीं संसाधनों की हैं क्योंकि संसाधन नहीं तो सुरक्षा नहीं; समृद्धि नहीं; संस्कृति नहीं और संतति भी नहीं बचेगी इसलिये हम सभी को इस पर ध्यान देना होगा। स्वामी जी ने दीदी माँ साध्वी ऋतम्भरा जी को रूद्राक्ष का पौधा भेंट कर उनका अभिनन्दन करते हुये कहा कि आप ऐसी दिव्य शक्ति हैं जिन्होंने जनमानस को भारतीय संस्कृति का संदेश देकर झंकृत किया है; देश के युवाओं को संस्कार व संस्कृति की दिशा प्रदान कर रही हैं। आपने सनातन संस्कृति के प्रचार-प्रसार के लिये अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया।

स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने श्रीमद् भागवत कथा के मंच से संदेश दिया कि ’’हम दो, हमारे दो, सबके दो, जिसके दो उसी को दो’’ ये बात मैंने वर्ष 2013 में प्रयागराज महाकुम्भ में आयोजित धर्म संसद में कही थी। अब समय आ गया कि अब यह धर्म संसद तक ही सीमित न रहे बल्कि यह संसद का भी धर्म बने’’। हमें चिंतन करना होगा कि जनसंख्या बढ़ रहीं हैं परन्तु हमारे पास रहने के के लिये जमीन कहां हैं? शुद्ध वायु, शुद्ध जल कहां हैं? इसलिये दो बच्चों से अधिक वालों को सरकारी सुविधाओं को प्राप्त करने का अधिकार, वोट देने का अधिकार, सरकारी नौकरी आदि प्राप्त न हो नहीं तो बढ़ती जनसंख्या पर अंकुश नहीं लगाया जा सकता।

भारत के पास पूरी दुनिया का लगभग 2.4 प्रतिशत भूभाग और केवल चार प्रतिशत जल है परन्तु दुनिया की 18 प्रतिशत आबादी भारत में रहती हैं। वही दूसरी ओर दुनिया की आबादी आठ अरब के आंकडें को भी पार कर चुकी है भारत सहित पूरी दुनिया की तीव्र गति से बढ़ रही जनसंख्या व जनसांख्यिकीय परिवर्तनों से उत्पन्न होने वाली चुनौतियाँ व समस्यायें बहुत बड़ी है इसलिये अब जनसंख्या नियंत्रण के लिये समान नागरिक संहिता भी लागू किये जाने की नितांत आवश्यकता है। 

स्वामी जी ने कहा कि भारत में विस्थापन, बीमारी, बेरोजगारी, शुद्ध पेयजल का अभाव, प्रदूषण, अशिक्षा और भूखमरी जैसी अनेक समस्याओं का मुख्य कारण जनसंख्या की वृद्धि है। इस समस्याओं पर गंभीरता से चितंन करने की जरूरत है। देश की एक बड़ी आबादी बीमारी, बेरोजगारी और मौलिक सुविधाओं के अभाव में जीवन यापन कर रही हैं। भारत सरकार इस पर कार्य भी कर रही हैं परन्तु जनसंख्या का बोझ इतना है कि उन स्थितियों से उबरना बहुत कठिन हो रहा है। ये तो वे समस्यायें हैं जिनका सामना कर रहे हैं इसलिये यह सब को दिखायी भी दे रही हैं परन्तु हमारे सामने उससे भी बड़ी समस्या हैं प्राकृतिक संसाधनों का दोहन।

स्वामी जी ने अर्थ ओवरशुट डे 2024 के विषय में चर्चा करते हुये कहा कि हम इस वर्ष अर्थ ओवरशुट डे 25 जुलाई को मना रहे हैं जबकि वर्ष 2023 में 2 अगस्त, को मनाया था इसका तात्पर्य हम पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष और अधिक तीव्रता से पृथ्वी के प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग कर रहे हैं। हम पृथ्वी के पारिस्थितिक तंत्र द्वारा उत्पादित 74 प्रतिशत से अधिक जैविक संसाधनों का उपयोग करते हैं अर्थात् हम प्राकृतिक संसाधनों का 1,75 गुना अधिक तेजी से उपयोग कर रहे हैं जिससे जैविक संसाधनों के क्षेत्र में हम बहुत घाटे की स्थिति में हैं। अगर हम इसी प्रकार प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग करते रहे तो हमें 3.6 पृथ्वी की आवश्यकता होगी। 

अब हम सभी को अपने जीवन जीने के तरीकों और प्राकृतिक संसाधनों के उपयोग पर पुनर्विचार करने की जरूरत है। हमारी धरती माँ केवल सीमित दर पर ही संसाधनों का पुनर्जनन कर सकती है लेकिन हम हर साल इस दर से ज्यादा इसका उपयोग कर रहे हैं। हमें यह बात याद रखना होगा कि पृथ्वी प्राकृतिक व जैविक संसाधनों का पुनर्जनन अपनी क्षमता के अनुसार कर रही हैं परन्तु हमारा उपभोग अधिक है इसलिये हम बचे हुए संसाधनों का दोहन करते हैं, जिससे स्थिति और भी खराब होती जा रही है। जैविक संसाधनों के स्तर पर हम घाटे में चल रहे हैं और इसे हम हल्के में भी ले रहे हैं। 

हमारी पृथ्वी को नवीकरणीय संसाधनों को नवीनीकृत होने के लिए समय चाहिए। यदि उपयोग दर नवीनीकरण दर से अधिक है अर्थात् हम संसाधनों का अत्यधिक दोहन कर रहे हैं यही अर्थ ओवरशूट है। भारत की विशाल आबादी का पेट भरने के लिए कृषि हेतु जमीन कम पड़ रही हैं। ज्यादा पैदावार के लिये रसायनिक खादों, कीटनाशकों का प्रयोग किया जा रहा है जिससे कैंसर जैसी भयावह बीमारियाँ बढ़ती जी जा रही है। दूसरी ओर परिवार बढ़ते ही जा रहे हैं, परिवारों में सदस्य बढ़ते जा रहे हैं जिससे घरों के बटवांरे, खेती व जमीनों के बटवांरे हो रहे हैं जिससे प्रति परिवार कृषि योग्य भूमि निरंतर घटती चली जा रही है जिसका प्रभाव पूरे देश पर पड़ रहा है।

भारत व आने वाली पीढ़ियों के उज्वल भविष्य के लिये तेजी से बढ़ रही जनसंख्या को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता इसलिये जरूरी है हम दो, हमारे दो, सबके दो -जिसके दो उसी को दो।

Sharing Is Caring:

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *