• May 17, 2024

जिस प्रकार जीवन में भोजन का होना नितांत आवश्यक है उसी प्रकार मनुष्य के जीवन में भजन का होना भी नितांत आवश्यक है ÷ श्री महंत श्यामसुंदर दास महाराज

 जिस प्रकार जीवन में भोजन का होना नितांत आवश्यक है उसी प्रकार मनुष्य के जीवन में भजन का होना भी नितांत आवश्यक है  ÷ श्री महंत श्यामसुंदर दास महाराज
Sharing Is Caring:

 

ठाकुर मनोज कुमार /कमल अग्रवाल (हरिद्वार) उत्तराखंड

हरिद्वार  ÷ श्री श्याम वैकुंठ धाम श्यामपुर के परमाध्यक्ष 1008 श्री महंत श्यामसुंदर दास जी महाराज ने भक्तजनों के बीच अपने श्री मुख से उद्गार व्यक्त करते हुए कहा जिस प्रकार मनुष्य के जीवन में भोजन का होना नितांत आवश्यक होता है

उसी प्रकार मनुष्य के जीवन में भजन का होना भी उसके कल्याण के लिए नितांत आवश्यक है संत महापुरुषों का सानिध्य जीवन में बड़े ही भाग्यशाली लोगों को प्राप्त होता है

गुरुजन इस पृथ्वी लोक पर साक्षात ज्ञान की त्रिवेणी है उनकी ज्ञान रूपी अमृत वर्षा में स्नान करने वाले भक्तों का जीवन धन्य और कृतार्थ हो जाता है तथा यह मानव जीवन सफल हो जाता है गुरु चरणों के प्रताप से सत्य की राह प्राप्त होती है

Sharing Is Caring:

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *